ads

ये मामूली-सी अंगूठी पूरा करेगी अधिकारी बनने का सपना, ये भी होंगे फायदे

ये मामूली-सी अंगूठी पूरा करेगी अधिकारी बनने का सपना, ये भी होंगे फायदे
हर व्यक्ति का सपना होता है कि उसे जीवन में खूब मान-सम्मान मिले। वो एक उच्च अधिकारी बनें और उसके पास खूब पैसे हो। मगर आपका ये सपना तभी पूरा हो सकता है जब सूर्य ग्रह आपकी कुंडली में मजबूत हो। क्योंकि इसी ग्रह से आपको कामयाबी मिलती है। मगर जिन लोगों का सूर्य कमजोर है तो उन्हें अपने ख्वाब को पूरा करने के लिए तांबे की अंगूठी धारण करनी होगी।
1.तांबे को सूर्य ग्रह का प्रतीक माना जाता है। इसे धारण करने से व्यक्ति को समाज में मान-सम्मान मिलता है। इसे रविवार के दिन पहनना शुभ माना जाता है।
2.तांबे की अंगूठी पहनने से सूर्य ग्रह मजबूत होता है। इसके प्रभाव से व्यक्ति उच्च अधिकारी व प्रतिष्ठित व्यक्ति बनता है। इसे दाहिने हाथ में धारण करना चाहिए।
3.चूंकि अनामिका अंगुली सूर्य की कहलाती है इसीलिए इसमें तांबे का छल्ला पहनना चाहिए। इसे पहनते समय छल्ले को गंगाजल से धोकर शुद्ध कर लेना चाहिए। साथ ही इसमें सिंदूर का टीका लगाना चाहिए।
4.ज्योतिष शास्त्र के अनुसार जो लोग तांबे की अंगूठी पहनते हैं वे भीड़ में भी अपनी जगह बनाने में सक्षम रहते हैं। ऐसे लोग उच्च अधिकारी व बहुत नामी-गिरामी नेता एवं बिजनेसमैन बनते हैं।
5.अगर किसी की कुंडली में सूर्य ग्रह कमजोर होता है तो इसे मजबूत करने के लिए तांबे की अंगूठी पहनी जाती है। इससे व्यक्ति का स्वास्थ भी सही रहता है और रक्त संबंधित बीमारियां नहीं होती हैं।
6.तांबे की अंगूठी न सिर्फ कामयाबी दिलाने में बल्कि स्वास्थ को सही रखने में भी मदद करती है। चूंकि इसकी तासी ठंडी होती है। इसलिए इससे पहनने से पेट की तकलीफों से राहत मिलती है। ये इम्यूनिटी पावर बढ़ाने में भी मदद करती है।

7.तांबे की अंगूठी पहनने पर पूरे शरीर में खून का संचार ठीक तरीके से होता है। ये धमनियों में खून के ब्लॉकेज को भी रोकता है। इसके अलावा ये हाई ब्लड प्रेशर को नियंत्रण में रखता है।
9.तांबे की अंगूठी महज सूर्य ग्रह के लिए ही नहीं बल्कि मंगल के लिए भी बहुत फायदेमंद है। इसे धारण करने से व्यक्ति का गुस्सा शांत होता है और उसका अपने मस्तिष्क पर नियंत्रण बढ़ता है।
10.तांबे की अंगूठी से कई तरह के वास्तु दोषों से भी छुटाकारा पाया जा सकता है। यदि इसे पूजा के स्थान पर रखा जाए तो ये वहां सकारात्मकता बढ़ाती है। वहीं इसे अंगुली में पहनने से व्यक्ति को नजर दोष से बचाव होता है।

No comments